परमात्मा को उतार कर धरती पर लाओ अगर तुम्हें सुखी होना है ?

Posted

परमात्मा को उतार कर धरती पर लाओ अगर तुम्हें सुखी होना है परमात्मा को उतार कर धरती पर लाओ अगर तुम्हें सुखी होना है, आनंदित होना है, मस्त होना है तो यह करना ही होग। जन्मों-जन्मों बीत गए कल्पनाओं मे।  परमात्मा दूर आकाश में है, बैकुंठ में है, गोलोक में है, स्वर्ग में है, वह […]

एक करोड़ मंदिर मस्जिद और बना कर देखो?

Posted

एक करोड़ मंदिर मस्जिद और बना कर देखो? हर व्यक्ति धार्मिक होना चाहता है इसीलिए वो मंदिर मस्जिद गिरजे गुरुद्वारे और अपने अपने धर्म स्थलों पर जाता है पर सोचने वाली बात ये है कि क्या इन धर्म स्थलों पर जाकर व्यक्ति धार्मिक हो सकता है ? पूरी दुनिया में धर्म स्थलों की भरमार है […]

तुम अपने ही जैसे के प्रति आकर्षित होते हो।

Posted

तुम अपने ही जैसे के प्रति आकर्षित होते हो। तुम्हारा दृष्टिकोण क्या है यह इस बात से दिख जाता है कि तुम किसके प्रति आकर्षित होते हो ‘तुम किसमे कौन सा गुण  देखते हो।  ध्यान से देखना जो धन का लोभी होगा वो उसी के प्रति आकर्षित होगा जो वैरागी  दिखता हो।  हाँ केवल दिखता […]

तुम्हे कही भी पहुंचना नहीं है।

Posted

तुम्हे कही भी पहुंचना नहीं है। हम सब दौड़ रहे हैं परंतु क्यों? नहीं पता। और लौटता भी कौन है? और इस दौड़ का केवल रूपए की दौड़ से ही मत मान कर संतोष मत कर लेना। कि तुम तो बच गए क्योकि तुम रुपये की दौड़ में शामिल नहीं हो। लेकिन तुम रूपये की […]

क्या यही धर्म है ?

Posted

क्या यही धर्म है ? तुम ध्यान से देखना जब एक बच्चा पैदा होता है तो तुम सभी उसे अपने अपने तथाकथित धर्म के अनुसार धार्मिक चिन्हो से अवगत कराना शुरू कर देते हो। हिन्दू परिवार अपने बच्चे को तिलक लगाता है कंठी जनेऊ पहनता है, मंदिर की मूर्तियों से अवगत करवाता है, मुस्लिम परिवार […]

यंहा अनाड़ी ही धर्म ध्वजा सँभालने का दावा करते है।

Posted

यंहा अनाड़ी ही धर्म ध्वजा सँभालने का दावा करते है। यंहा अनाड़ी ही धर्म ध्वजा सँभालने का दावा करते है। इससे ज्यादा क्या नीचे गिरोगे तुम जंहा तुम्हे जागा हुआ मनुष्य पागल मालूम होता पड़े और धर्मो की खोल में छिपे हुए मदमस्त धार्मिक मालूम पड़े। जितने भी उसके दीवाने हुए उस अल्ल्हा की मोह्हबत […]

बैसाखी थोड़े ही चलती है लंगड़े को?

Posted

बैसाखी थोड़े ही चलती है लंगड़े को? बैसाखी थोड़े ही चलती है लंगड़े को? तुम सोचते हो की कि बैसाखी लंगड़े को चलाती है भूल में हो तुम। लंगड़ा बैसाखी को थामता है इसलिए ही चल पाता है। आत्मा और परमात्मा में कुछ भी तो भेद नहीं है दोनों एक ही है तुमने अपने कमरे […]

आत्महत्या क्यों ?

Posted

आत्महत्या क्यों ? इसकी आवश्यकता क्यों पड़ी ? क्योकि तुम्हारे तथाकथित धर्म या सम्प्रदाय में कुछ तो कमी है की जिसके कारण पूरी दुनिया धार्मिक है फिर भी पूरी दुनिया भर में आत्महत्या हो रही है तुम यह जानकर हैरान होंगे की हमारी दुनिया में हर ४० सेकंड में एक व्यक्ति आत्महत्या करता है ! […]

मुक्ति क्या है बंधन क्या है?

Posted

मुक्ति क्या है बंधन क्या है? मुक्ति क्या है बंधन क्या है? तुम जिस मुक्ति की बात करते हो उसे खोजने से पहले ये देखो की बंधन क्या है? मुक्ति का तात्पर्य क्या है? मुक्ति यानि स्वतंत्रता, यानि बंधन मुक्त। हर प्रकार के बंधन को अस्वीकार करना, ये ही मुक्ति है इस प्रकार तुम्हारा तथाकथित […]

जिसे तुम धर्म मानते हो वो धर्म नहीं तुम्हारा अहंकार ही है।

Posted

जिसे तुम धर्म मानते हो वो धर्म नहीं तुम्हारा अहंकार ही है। “धर्म या अहंकार” “आओ अब तो धर्म कोई ऐसा बनाया जाये। जिसमे इंसान को इंसान बनाया जाये !!” सारी दुनिया धार्मिक है कोई हिन्दू है कोई मुस्लमान है कोई सिख है कोई ईसाई है पूरी दुनिया में मुख्य 300 धर्म है और उपधर्म […]