Parmatmana {The Ultimate Wisdom}

What is "Parmatmana"

A word that everyone talks about but no one has understood it as this word has been taken with such seriousness that enlightenment Buddha “Parmatmana” has himself become the God and without being the divine neither the greatness of God can be known nor the seriousness of the word God.

still from time to time buddha has been coming and he keeps on diving the knowledge he has gained.

“Parmatmana” : What is

“Parmatmana” : is the name of greatness.

“Parmatmana” : One is the name of bliss.

“Parmatmana” : The name of a festival.

“Parmatmana” : Name of a way of living life the name which indicates the way of living.

“Parmatmana” : It is the name of a flood of love in which anyone dives and falls in love.

“Parmatmana”: it’s the name of a person who gave this era the scientific religion that is alive today.

“Parmatmana” : An ocean that can contain all pebble stones, castles, great mountain peaks within the highest peak of mountains within himself.

“Parmatmana”: The name is that of a tsunami that sweeps everything in its arms. Then there remains only one thing and that is the ocean! Infinite vast deep ocean.

and when any person finds this state of enlightenment, who finds that there is no one here. this is the state in which a person finds himself enlightened this same position is called Paramatma and the same condition is called “Parmatmana”.

परमात्मनः

एक ऐसा शब्द जिसके बारे में सभी बातें करते हैं लेकिन कोई भी इसे समझ नहीं पाया है। क्योंकि यह शब्द ऐसी गंभीरता लिए हुए हैं और स्वयं परमात्मा इतनी विराटता लिए हुए हैं कि बिना परमात्मा हुए ना तो परमात्मा की विराटता को ही जाना जा सकता है और ना ही परमात्मा शब्द की गंभीरता को। लेकिन फिर भी समय-समय पर बुद्ध आते ही रहे हैं उस विराट की विराटता में गोता लगाते ही रहे।

परमात्मनः  क्या है?

परमात्मनः  एक विराटता का नाम है। परमात्मनः एक आनंद का नाम है। परमात्मनः एक उत्सव का नाम है। परमात्मनः एक जीवन जीने का एक ढंग का नाम है। परमात्मनः  यह एक ऐसी प्रेम की बाढ़ का नाम है जिसमें गोता लगाकर कोई भी प्रेम के में सरोबार हो जाता है। परमात्मनः  एक ऐसे व्यक्ति का नाम जिसने इस युग को आज के जमाने का जीता जागता वैज्ञानिक धर्म दिया ।

परमात्मनः  एक ऐसा सागर जो सभी कंकड़ों  पत्थरों को,  महलो चोबारो को , बड़े बड़े पर्वत शिखरों को अपने भीतर समाने की क्षमता रखता है

परमात्मनः  नाम है एक ऐसी सुनामी का जो सभी कुछ बहा कर अपनी आगोश में कर लेती है। फिर वहां केवल एक ही वस्तु रहती  है और वह है सागर! अनंत विशाल गहरा सागर।

और जब भी कोई भी व्यक्ति इस बुद्धतत्व की स्थिति को पाता है तो देखता है कि यहां एक के अलावा दूसरा कोई है ही नहीं, बस उसी स्थिति का नाम बुद्धतत्व है। उसी स्थिति का नाम परमात्मा है और उसी स्थिति का नाम परमात्मनः है।

Why we follow parmatmana ideology?

If we talk about humans, the human mind has always aspired to be happy, to be independent and this desire is only there in the human mind which will remain to be there for the rest of life.

everyone has a desire to remain independent, the desire to roam freely, the desire to fly in the infinite sky, the desire of animals to roam in vast open forests, etc.

humans want to be free from everything, there is nothing wrong with this.

if anyone says that being free from everything is wrong, and the persons who are holding someone in a cage is that ok for everyone or you want a free state of mind?

as in today’s scenario, also humans have created their thoughts, principles, superstitious beliefs, orthodox beliefs, etc. after all it’s wrong.

Liberation means complete independence.

initially, you have to identify who you are, later you have a right to chose your path.

the day when you get to know who you are, the day you will get satisfied you get all your freedoms. the same satisfaction can give you peace, joy, being free, etc.

“Parmatmana” says.

Religion is made to make humans happy, a principle is made to make humans happy, a scripture is made to make humans happy. But humans couldn’t be happy because society has put the scriptures, principles, religions has pressurized the humans to follow such religions.

Today it seems that humans are made for religion, for principles, for the scriptures.

Everything has gone upside down and changing such ideology is called a revolution.

“Parmatmana”  says:- that the awakening of humans and getting enlightened and the self-realization of humans is called religion.

“Parmatmana” says:-

You are searching for the truth, but you still didn’t find what exactly you wanted from your life. 

you are searching for 100 years but exactly you find the truth or not?

In today’s world, the whole world is running its shop in the name of religion. here “Parmatmana” says, humans should be happy and free from mind neither he teaches you any disciple nor he will teach you to live in your dreams.

“Parmatmana”  says:-  if you want to attain heaven, then make your present life heaven, if you want liberation then be liberated, if you want to get nirvana then experience it here only. and if you want to see the truth then be ready to be divine yourself.

क्योंकि मनुष्य के मन में हमेशा से ही सुखी होने की आनंदित होने की स्वतंत्र होने की अभिलाषा रही है और यह अभिलाषा केवल मनुष्य के मन में है यह भी कहना ठीक नहीं है। हर वो जीव जो अपना अस्तित्व रखता है उन सभी के मन में स्वतंत्रता की चाह स्वाभाविक ही है।

पक्षियों के मन में स्वतंत्र रहने की अभिलाषा, स्वतंत्र घूमने की , अनंत आकाश में उड़ने की अभिलाषा, पशुओं के मन में खुले विशाल जंगलों में विचरण की अभिलाषा स्वभाविक ही है।

मनुष्य मुक्त होना चाहता है। इसमें गलत कुछ भी तो नहीं है। अगर मुक्त अवस्था गलत है। तो क्या किसी को बंधन में रखने वाले जो लोग हैं, क्या वह ठीक है ? नहीं  मुक्त अवस्था ही ठीक है।

बंधन चाहे किसी दूसरे मनुष्य के द्वारा हो , विचारों के द्वारा ,सिद्धांतों के द्वारा , सोच के द्वारा आखिर  तो गलत ही है इससे तो कोई भी फर्क नहीं पड़ता है की बंधन किसके द्वारा है ।

मुक्ति यानी पूरी आजादी। संपूर्ण स्वतंत्रता।

सबसे पहले स्वयं को चुनने की स्वतंत्रता स्वयं के लिए मार्ग के चुनने की स्वतंत्रता। और जिस क्षण मनुष्य को यह आजादी मिलती है। उसी क्षण मनुष्य संतुष्ट अनुभव करता है। वही संतुष्टि मनुष्य को शांति ,आनंद, उड़ान दे सकती है। परमात्मनः  जो  कि मनुष्य को ही महत्व देते हैं ना कि सिद्धांतों को।

परमात्मनः  कहते हैं।

धर्म बना  मनुष्य को सुखी करने के लिए , सिद्धांत बने मनुष्य को सुखी करने के लिए , शास्त्र बने मनुष्य को सुखी करने के लिए। लेकिन मनुष्य तो सुखी नहीं हो पाया क्योंकि समाज ने शास्त्रों को , सिद्धांतों को , धर्मों को ही मनुष्य के सिर पर रख दिया। समाज ने उन्ही शास्त्रों को सिधान्तो को मनुष्य की बेड़ियां बना दिया।

आज ऐसा लगता है कि मनुष्य बना है धर्म के लिए , सिद्धांतों के लिए , शास्त्रों के लिए। सभी कुछ उल्टा हो गया और इसी विचारधारा को बदलने को ही परमात्मनः  एक क्रांति कहते हैं।

परमात्मनः  कहते हैं कि मनुष्य के बोध का जागरण ही धर्म है और इसके अलावा कोई भी धर्म नहीं है और जिसका बोध जाग गया वह धार्मिक , वह संतुष्ट , वह सुखी , वह मोक्ष को  उपलब्ध ,वह परमात्मा को उपलब्ध।

परमात्मनः  कहते हैं तुम जन्मों से भाग रहे हो, उसी की खोज में अगर तुम्हारा मार्ग ठीक होता तो किसी को तो मिल गया होता लेकिन मिला तो नहीं।  रुको दो क्षण बैठो।  सोचो ! कि कहीं तुम जिस दिशा में भाग रहे हो, वह दिशा ही तो गलत नहीं है। हो सकता है वह दिशा ही गलत हो।  और अगर तुम्हें सही दिशा को जानना है तो किसी भी बुद्ध को खोज लो। खोज लो किसी ऐसे व्यक्ति को जो मुक्त हो चुका हो जो स्वयं परम ज्ञान को उपलब्ध हो चुका हो, वही तुम्हें मुक्ति की अवस्था का स्वाद चखा सकता है।

आज के संसार में जहां पूरी दुनिया धर्म के नाम पर केवल अपनी ही दुकान चला रही है। वहां परमात्मनः  अकेले केवल तुम्हें सुखी करने की बात करते हैं। वह ना तो तुम्हें शिष्य बनाना चाहते हैं और ना ही कोई भविष्य के स्वप्नों पर ही जीना सिखाते हैं।

परमात्मनः  कहते हैं कि अगर स्वर्ग पाना है तो इसी धारा को स्वर्ग बनाओ मुक्ति चाहिए तो यही मुक्त हो जाओ, निर्वाण चाहिए तो उसका अनुभव यही करो और परमात्मा को पाना है तो स्वयं परमात्मा होने को तैयार हो जाओ।

How did Parmatmana ideology came into existence?

Humans! Who wishes to get something from the beginning. A child in his childhood eagerly wanted with the toy, Young person friend eagerly wanted male or female friends.

As everyone wants to get something but why you wanted something in your life? Did anyone think about it?

As humans are empty from the inside and this loneliness draws other objects. The river draws water from other surroundings. If we spread water of zero density on the ground, then the surrounding dust dissolves within itself. as no one can remain empty.

Scientists say space is a vacuum. But look, the same vacuum has filled millions of planets, asteroids within themselves.

if we talk about “Parmatmana”‘s journey. 

As our spiritual books and Dharm Gurus says, God is absorbed in every particle. To find God “Parmatmana” visited many temples, attended many spiritual lectures, did chantings, Yagya, parikrama, sidhi-sadhna, and many other things, and went door to door of spiritual gurus to find God for ultimate knowledge.

If we talk about “Parmatmana” when he asked the Dharma Gurus about God , as Dharma Gurus replied you can go inside the temple and have a darshan of idols. “Parmatmana”  replied that if I buy these idols and bring it at home, can I say that I have found God ?

There, someone who has met the different type of Mahatmas were chanting a special mantra since birth. He got old, but he could not find even God . An onion teaches not to eat garlic, not to drink tea, to be religious. Someone is insisting on what to do.

as we talk about other Dharma Gurus sitting in different Holy places they will guide you with their knowledge like doing tantra mantra, someone will say not to eat onion, not to drink tea alcohol, etc. someone says try doing meditation, kundalini Jagran, chantings, dhyana yoga, making of Dhyan linga, etc. as different dharma gurus have a different ideology and methods to find God.

these methods they are doing since birth but actually, they didn’t find anything they are making you fools and running the shop just to rule on you.

Do you think by these methods you can find God?

Did your Dharma Gurus have saw the God after so much practice, when “Parmatmana” followed all the methods which are guided by the dharma gurus at the end he still didn’t find the God he met with a Tantric?

as “Parmatmana” again followed the methods which are guided by Tantric so-called Dineshanand to find God.

as Dineshanand the Tantric who haunted 2-4 ghosts and fooling peoples in the name of God with the help of his puppets Birendra Tiwari, Jain, and many more.

God, itself a huge object beyond his comprehension.

Well, by now the evening of life had changed. The age was approx  51 – 52. The courage he had in his early ages was also changed as of now, perhaps he thinks that there is only a word that exists called Paramatma (The God). 

“Parmatmana” devoted half of his life to search about Paramatma (The God) for that “Parmatmana” tried all the methods or paths like Bhakti marg, Gyan Marg, Karm marg, Tantra marg, etc.

but still, he didn’t find anything. at last, he thinks that there is the only word that exists called Paramatma (The God) nothing else. 

as after reaching a particular age, all his desire has been finished as if there is no God  then there is no heaven, no Baikuntha, no divine, etc.

now “Parmatmana’s”all desires are finished he took a deep breath and get relax and all the desires have ended day by day.

gradually the mind is getting calm. one day “Parmatmana” thinks, for the one I am running behind he is standing there only in front of my eyes.

finally when “Parmatmana” Founds the Parmatma (The God) the one he was rushing to find God as God is also the same as he is.

Now everything was bright and clean. Kalima has vanished from the eyes. The one who was standing in front of me, the one who was visible to me and the one who is standing within everyone, was the same.

There was no distinction at all. All boundaries have broken. All differences have fallen. the one who saw has also died and the one he is looking for has also died.

now in the world has everyone has died. as there is only one left which has no identity.

the thing which was left with “Parmatmana” is the joy, happiness, freedom, etc. of life.

now when actually “Parmatmana” founds who the Paramatma (The God) is. he thinks of guiding and teaching the world the right path through which they can find the Paramatma (The God).

“Today again a Buddha appeared”.

“Today Buddha has come on the earth again”.

“Today nature has risen again”.

“Today the thunder of the same God was heard again in the winds”.

“Today again the harp within someone has started a new way”.

“Today again crows started singing in the world”. “Today the ocean again started to sing Brahmnaad”.

“Today the divine began to rest on the particle”. “Today again God has brought a peg in his hand and he is again feeding the lovers of love”.

“Today again a new morning is born”.

“Today again the sun has risen with new positive rays”.

“As again in the world of Enlightenment, a new flower has risen.

“As again in the world of Tirthankaras, a new flower has risen.

“As again in the world of Pagambars, a new flower has risen.

“As again in the world of Lightning, a new flame is burned.

the same way “Parmatmana” knowledge has increased and day by day he keeps on spreading the knowledge in the whole world.

मनुष्य! जो आरंभ से ही कुछ ना कुछ पाने की अभिलाषा रखता है। बच्चा! खिलौना पाना चाहता है युवा मित्र पाना चाहता है। बड़ा स्त्री पुरुष  पाना चाहता है। सभी पाना चाहते हैं लेकिन क्यों पाना चाहते हैं। इसकी गहराई तक कोई भी नहीं गया।

क्योंकि मनुष्य भीतर से खाली है। वह खालीपन दूसरी वस्तुओं को खींचता है। नदी अपने आसपास का पानी खींच लेती है। zero density  का पानी जमीन पर फैलाओ तो आसपास के धुल मिटटी को अपने भीतर समा लेता है। खाली कोई भी नहीं रह सकता।

वैज्ञानिक कहते हैं, अंतरिक्ष vacuum है। लेकिन देखो उसी vacuum  ने करोड़ों अरबो ग्रह स्वयं के भीतर भर रखे हैं और उन्हें गतिमान भी कर रखा है।

इसी प्रकार परमात्मनः  हमेशा से ही इस ओर भागे कि वह उस परम ज्ञान को प्राप्त कर लें। उस परमात्मा का दीदार कर ले जो कण-कण में समाया है। उसी को पाने की चाह लिए परमात्मा ने खोज शुरू की।  कभी किसी मंदिर कभी किसी मंदिर , कभी किसी कृष्ण भक्ति वाली संस्था में पहुंचे तो कभी कंही और।

पर जब वहां परमात्मनः  ने पूछा, ईश्वर के बारे में तो वहां के लाल कपडे वाले नामधारी महात्मा कहते हैं कि परमात्मा अंदर मंदिर में है। चले जाओ। वह भगवान की मूर्ति ही परमात्मा है।  तो परमात्मा ने उत्तर दिया कि अगर मैं इस मूरत को खरीद कर घर ले आओ तो क्या मैं कह सकता हूं कि मुझे परमात्मा मिल गया। तुम सोच ही सकते हो। इस बात का कोई भी तो औचित्य नहीं है।

फिर वहां से निकले तीर्थों में जाना आरंभ हुआ। भांति भांति के महात्माओं से मुलाकात हुई। लेकिन तीर्थों में क्या होता है क्या आप इतनी आसानी से बोल सकते है कि आप पाप करो और गंगा में जाकर पवित्र  हो जाओ। क्या ऐसे पवित्र हुआ जाता है। आखिर गंगा तुम्हारे कितने पापों को लेकर कहां जाएगी। गंगा को तो नरक में भी जगह नहीं मिलेगी।

वहां भाति भाति के महात्माओं से मुलाकात हुई कोई जन्म से किसी विशेष मंत्र का जप कर रहा है। बूढ़ा हो गया लेकिन परमात्मा तो उसे उसे भी नहीं मिला। कोई प्याज लहसुन ना खाने को चाय ना पीने को ही धार्मिक होना सिखाता है। कोई इस बात पर जोर दे रहा है कि क्या करना चाहिए।

कैसा व्यवहार करना चाहिए। कोई आंखें बंद कर स्वपन के लोक दिखा रहा है। कोई कुंडलिनी जगाने को सहयोग करवा रहा  है। कोई जीवन जीने की कला सिखा रहा  है। कोई सितार बजाकर ब्रह्म नाद के दावे कर रहे हैं। कोई कह रहा है। मैंने ध्यान लिंगा बना दिया। उसके भीतर बैठने की टिकट लो तो तुम्हें भी शांति प्राप्त हो जाएगी। भांति भांति कि मुर्खताये  दुनिया में हो रही है लेकिन परमात्मा का पता ठिकाना किसी के पास नहीं है। परमात्मा की बात कोई नहीं करता है।

परमात्मा कैसे दिखेगा यह बात तो सिरे से ही नकार दी जाती है। लेकिन सभी एक ही गलती कर रहे हैं कि वह मनुष्य को बाहर कि और ही मोड़ रहे है। बाहर की और ही घुमा फिरा रहे हैं और परमात्मा की बात ही नहीं कर रहे हैं क्योंकि परमात्मा कैसे मिलेगा। शायद इसका उत्तर उनके पास भी नहीं है।

खेर समय बीतता गया और  परमात्मा की खोज बढ़ती गई किसी ने कहा, 5 वर्ष अन्न त्याग दो तो शायद परमात्मा मिल जाए। वह भी किया लेकिन परमात्मा तो फिर भी नहीं मिला।

किसी ने कहा, तीर्थों में वास करो, शायद परमात्मा मिल जाए, वह भी किया लेकिन परमात्मा तो नहीं मिला है। परमात्मा की इच्छा बढ़ती गई प्यास बढ़ती गई। भीतर की आग बढ़ती गई और ना मिलने से ज्यादा खोजने में जो श्रम  हुआ, उससे परमात्मा और दूर होता चला गया।

अंत में कुछ वर्षों बाद एक तांत्रिक भी मिला। तो परमात्मनः ने सोचा चलो यह विधि भी देखी जाए। शायद इसी से परमात्मा मिल जाए। शायद उसका नाम दिनेशआनंद था। परमात्मा ने उसकी विधि का भी प्रयोग किया। लेकिन देखा कि वह तो मूड स्वयं ही 2 -4 भूत प्रेत सिद्ध कर बैठा है और लोगों को मूर्ख बनाकर अपना , अपनी बीवी का और अपनी बेटी का पेट पाल रहा है। परमात्मा से तो कोसों दूर है वो व्यक्ति।

उस व्यक्ति ने एक मदारी गिरी का धंधा चलाया हुआ है। दिनेशआनंद अपना नाम रख लिया। वीरेंद्र और जैन नाम के चेले पाल रखे है और वो सभी व्यक्ति मिलकर उस भूत द्वारा करतब दिखाकर संसार के भोले भाले लोगों को खूब लूटते हैं। खूब धन कमाते हैं।

परमात्मा उनकी भी समझ से बाहर की कोई विशाल वस्तु है। वह दोनों बहुत तुच्छ प्राणी जो केवल यही पर यही का धन इकट्ठा करने में ही लगे हुए हैं।

खैर अब तक जीवन की शाम ढल चुकी थी। उम्र 51 – 52 हो चुकी थी। हिम्मत जवाब दे गई थी कि शायद यह परमात्मा केवल शब्द का ही परमात्मा हो। ऐसा कोई हो ही ना जिसकी खोज की जा रही है। वह खुद ही गलत हो क्योंकि  दिशाएं तो

भक्ति मार्ग , ज्ञान मार्ग , कर्म मार्ग सभी देख लिया।  तंत्र मार्ग भी देख लिया। खैर निराश होकर परमात्मनः  घर में बैठ गए। क्योंकि अब कोई दिशा ही ना बची । अब कहीं जाना ही ना था। अब कुछ भी पाना ही ना था। ना स्वर्ग , ना बैकुंठ , ना परमात्मा , ईश्वर।  कुछ भी तो नही।  क्योंकि मिल ही नहीं रहा था। मिल ही नहीं सकता था। बस खाली बैठना और विश्राम करना और कोई भी तो काम ना था। धीरे-धीरे चित्त शांत होने लगा। मन की उड़ाने समाप्त होने लगी। कचरा नीचे बैठता गया और साफ स्वच्छ पानी ऊपर आता। ऐसे ही धीरे-धीरे जब सारा कचरा , सारी चाहे , सारी अभिलाषाएं समाप्त हो गई तभी एक दिन वो घटा जिसकी शायद उम्मीद भी न थी।  वह जिसकी दौड़ थी, देखा वह सामने ही खड़ा था। वहीं उपस्थित था आंखों के सामने तो खड़ा था।

पाया कि वह जो था वही था जिसको धारण कर परमात्मनः स्वयं जीवित थे । तो पाया कि जो वहां जो दिख रहा था और जो देखने वाला था। दोनों एक ही तो थे।

अब सब कुछ साफ-साफ उजला साफ सुथरा हो गया था। दृष्टि में से कालिमा  निकल गई थी। वह जो सामने खड़ा था, मुझे दिखने वाला  और वह जो सभी के भीतर खड़ा था, वह एक ही था। वंहा कुछ भी भेद न था। सारी सीमाएं टूट गई। सारे भेद गिर गए। सभी दूसरे मर गए और  साथ में मर गया दूसरे को देखने वाला भी।  और साथ मर गया खोजने वाला और साथ में मर गया मैं । और साथ में मर गया वो जो  कल्पनाओं के अनंत सागर में गोता लगता था। सभी तो वंहा मर गए थे।

अब परमात्मा ने सोचा जो उन्हें मिला है। वही दुनिया को दिया जाए।

आज फिर एक बुद्ध का प्राकट्य हुआ।

आज धरा पर फिर एक बुद्ध आया है 

आज फिर प्रकृति नाच उठी है ।

आज हवाओं में फिर से उसी परमात्मा के घुंघरू की झंकार सुनाई देने लगी।

आज फिर किसी के भीतर की वीणा ने नया तराना छेड़ दिया है ।

आज फिर संसार में कौवे गीत गाने लगे।

आज फिर सागर ब्रह्म नाद करने लगा।

आज फिर परमात्मा कण कण के ऊपर नित्य करने लगा।

आज फिर खुदा अपने हाथ में जाम लेकर आया है और वो फिर प्रेम के दीवानों को पिलाने लगा है।

आज फिर एक नया सवेरा जन्मा।

आज सूरज नया होकर आया।

इस बुद्धौ के जगत में इस पैगंबरों के जगत में इस तीर्थंकरों के जगत में उसी माला में एक फूल और गूथ दिया गया है।

उसी दीपमाला में एक दीपक और जल गया।

इसी प्रकार परमात्मनः का प्राकट्य हुआ और इसी प्रकार परमात्मनः की सोच ने दिन पर दिन एक नया रंग लिया। 

 

 

 

 

 

How do we practice?

In finding religion, not even a single effort has to be put in. you only just have to remove your orthodox, superstitious, the disciple you are following, measures you are taking, going to the pilgrimages, heaving fast doing unnecessary things which are wasting your time.

but exactly you know what happened with you?

the day you are born you are entitled to follow the following measures which distracted your mind.

 once these things are removed you can easily find the truth.

“Parmatmana” :- he teaches you nothing has to be done, the more you do, the more you will get away from yourself.

Once you get to indulge in the following measures, the more you will get involved in these things, later at a certain age, you get to know what you have exactly missed in life.

 he says no efforts have to be put from your end just be free from the following measures and you will get enlightened.

Buddha didn’t create any aura in your mind, rather Buddha has taught you the truth behind life. he guided you into what the religion is.

he removed The garbage which is there in your mind and the conservative ideologies you are carrying since birth.

“Parmatmana”: he teaches You the right path to get enlightened for that you have to do nothing. you just have to be calm, Learn to relax.

just listen to the lecture of “Parmatmana”. the day you will realize that you are actually calm from inside, the day you are free from your mind that day you will find yourself in the state of Buddha the day you will get enlightened.

यहां कुछ भी साधन करके नहीं मिलता। यही भूल तो हमेशा से ही तुम कर रहे हो, साधना करेंगे। जब तप करेंगे, उपाय करेंगे, सिद्धियां करेंगे। तीर्थों में जाएंगे उपवास करेंगे।

तुम भूल कर रहे हो जिसको पाने के लिए तुम यह सब करोगे उसको तुम साथ लेकर ही आए हो।  लेकिन हुआ क्या ? पैदा होते ही तुम्हारे ऊपर संस्कारों के कचरे लाद  दिए गए, जिसके कारण तुम अपना स्वयं का मूल स्वरूप भूल गए।

परमात्मनः इसीलिए समझाते हैं या कुछ भी नहीं करना है क्योंकि जितना तुम करोगे उतना ही तुम स्वयं से दूर होते जाओगे। एक बार तुम बाहर निकले तो पूरी दुनिया का चक्कर लगाकर ही भीतर आना पड़ेगा। इसलिए कहीं बाहर नहीं जाना है। अगर तुम ध्यान से देखो तो सभी बुद्धौ ने कुछ भी न करने को ही कहा। सभी बुद्धौ ने कहा है कि यंहा कुछ भी नहीं करना। तभी तो अकर्मणता का सिद्धांत सत्य होता है।

बुद्धौ ने कुछ भी नहीं बनाया बल्कि उल्टा बुद्धौ ने तो केवल तोडा ही है। तुम्हारे ऊपर का कचरा , तुम्हारे ऊपर का संस्कार , तुम्हारी ढोई हुई जन्मो जन्मो की रूढ़िवादी विचारधाराएं। सभी तो तोड़ी है।

जैसे मूर्तिकार मूर्ति बनाता है तो कोई जोड़ता थोड़े ही है। वह तो छैनी हथोड़े से उस पत्थर को तोड़ता है जिसमें मूर्ति छिपी होती है। ऊपर से बिना वजह के लगे हुए पत्थर का भाग हटाता जाता है। भीतर से मूर्ति स्वयं प्रकट हो जाती है। इसी को तो कहते हैं स्वयंभू।

परमात्मनः तुम्हें कुछ भी करने को नहीं कहते। केवल शांत होना सीख जाओ। विश्राम करना सीख जाओ। परमात्मनः के लेक्चर सुनो बाहर की दौड़  को भीतर की ओर मोड़ दो और जिस दिन ऐसे विश्राम की अवस्था में बैठे-बैठे तुम्हारा सारा कचरा उतर जाएगा। उसी दिन बुद्धतत्व घट जाएगा।

उसी दिन तुम भी उदघोष कर उठोगे कि यहां एक ही परमात्मा है, उसके अलावा कुछ भी नहीं। और मैं भी नहीं।  यहीं पर अद्वैत सिद्ध हो चुका होगा। तुम्हारा बिना जपे उदघोष हो रहा होगा। अहम ब्रह्मास्मि। फिर जहां परमात्मा खड़े होंगे वही तुम परमात्मनः को भी पाओगे और वही तुम स्वयं को भी पाओगे। बात तीन नहीं एक ही होगा। यहां कुछ भी नहीं करना है।